MAZDOOR ADHIKAR SANGHARSH RALLY

3rd MARCH (10am to 5pm)
RAMLILA Maidan to SANSAD Marg, Delhi

* Abolish the Contract System! Ensure Permanent Secure Dignified jobs!
* Declare Rs 25000 as the Minimum Wage!
* Withdraw all Anti-Worker Reforms in Labour Laws!
* Equal pay for Equal Work
* Halt and withdraw Privatization of PSUs!
* Stop Repression & Criminalization of Workers Movements!
* Ensure the Right to Form Unions!
* Ensure Pension, Rs.15000 Unemployment Allowance, social security and all other rights of Unorganized Sector Workers

Today, neoliberalism, and especially the present regime backed by fascist forces, is wreaking total havoc on the toilers of the country. We see increased exploitation, repression & criminalization of workers, intensifying contractualization and unemployment, falling real wages and standard of living. But in the current context where War drums roll over a narrow definition of Nationalism and debates over Ram Mandir peaks before the Election season, the issues of those who make and remake the life of any nation: workers and farmers, are completely absent from discourse. The resistance from #ThoseWhoMakeInIndia however continues to posit uncomfortable and unresolvable questions to those in power, beyond election spectacles.

In this context, generalizing and representing the struggling workers movement in the country, this call for #3rdMarchWorkersMarch is being given.

Called by
Mazdoor Adhikar Sangharsh Abhiyan (MASA)
a Joint Platform of struggling Workers Organizations and Trade Unions from across the country, who have come together over the past 3 years on a 17-point Charter of Demands

All India Workers Council (AIWC), Grameen Mazdoor Union (Bihar), Indian Centre of Trade Unions (ICTU), Indian Federation of Trade Unions (IFTU), IFTU Sarwahara, Inqlabi Kendra Punjab, Inqlabi Mazdoor Kendra (IMK), Jan Sangharsh Manch (Haryana), Shramikshakthi Karnataka, Socialist Workers Centre Tamil Nadu, Struggling Workers Co-ordination Committee (SWCC) West Bengal, Trade Union Centre of India (TUCI), Workers Solidarity Centre (Gurgaon), Workers Solidary Centre (Uttarakhand)


**मजदूर अधिकार संघर्ष रैली**

3 मार्च (सुबह 10 बजे से 5 बजे)
रामलीला मैदान से संसद मार्ग

आज जब झूठे और सच्चे राष्ट्रवाद की बात हो रही है, तब मजदूर आंदोलन का पुराना नारा हमें याद आता है, “कौन बनाएगा हिंदुस्तान? देश का मजदूर-किसान!” इस देश में आज जब पूंजीपति और उसके पक्षधर नेता राज कर रहे हैं, तब हम एक नए समाज, एक नए देश की कल्पना करने की हिमाकत कर रहे हैं। जहां मजदूरों का सम्मान हो, जहां आजीविका-रोज़गार सुनिश्चित हो और संसाधनों पर हमारा अधिकार हो।

हजारों की तादाद में देश के लगभग 20 राज्यों के विभिन्न क्षेत्र के मजदूर 3 मार्च 2019 को – अपने अस्तित्व और संघर्ष की आवाज़ बुलंद करने – दिल्ली पहुँच रहे हैं। यह रैली रामलीला मैदान से संसद मार्ग तक सुबह 10 बजे से 5 बजे तक होगा।

पिछले कुछ सालों में मजदूरों के ऊपर शोषण व दमन का चक्र तेज हुआ है। ठेकेदारी प्रथा और बेरोज़गारी बढ़ती जा रही है, और वास्तविक वेतन तथा जीवन- स्तर गिरता जा रहा है। कई क्षेत्र में आन्दोलन तेज़ हुए हैं। इन्ही सब मुद्दों को सामने रखते हुए “मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान ” (MASA) द्वारा मजदूर अधिकार संघर्ष रैली की जा रही है।

* ठेकेदारी प्रथा खत्म करो, और स्थायी सम्मानजनक रोज़गार सुनिश्चित करो !
* 25000रु न्युनतम वेतन लागू करो !
* श्रम कानूनों में मजदूर-विरोधी, पूंजी-पक्षधर ‘सुधार’ को वापस लो !
* मजदूर आन्दोलनों पर राजकीय दमन बंद करो !
* यूनियन बनाने के अधिकार के लिए !
* राजकीय उद्योगों के निजीकरण के खिलाफ़ !
* असंगठित मजदूरों के लिए 15000रु पेंशन, बेरोज़गारी भत्ता, सामाजिक सुरक्षा आदि अधिकार लागू करो !

मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान