Note by Nayan Jyoti

The body count from #MakeinIndia developmental terrorism increases: Migrant worker in Omax factory Dharuhera (Haryana), Ajay Pandey from Bihar forced to commit suicide on 13 Feb evening. His fellow workers from Omax, joined by workers from Rico, Autofit, Daikin refused to cremate the dead body and brought it in front of the factory gate yesterday 14 February. Omax workers inside the factory struck work and occupied the factory. The Company tried to shift the blame, and calls in huge Police contingent. But why did the suicide happen? On 1 Feb, 388 contract workers of Omax, working for last 15-20 years, were terminated from their jobs, all for cynical profit calculations. Finally last night around 2 am, the Company was forced to agree to a temporary settlement of Rs.5.5lakhs to the kin of the deceased and a promise to reinstate terminated workers. But the rage will not be doused by these doles in the face of increasing attacks by the capitalist machinery.

—–

14 फ़रवरी 2017 ओमेक्स धारूहेड़ा । काम से निकाले गए एक मज़दूर बिहार निवासी अजय पांडे ने 13 फ़रवरी की शाम आत्महत्या कर ली । मज़दूर के शव के साथ ओमेक्स, रीको, ऑटोफिट के मजदूर फैक्ट्री गेट पर बैठे हुए हैं। ओमेक्स यूनियन ने हड़ताल कर दी है, प्लांट के अंदर भी श्रमिक बैठे हुए हैं। यूनियन और प्रबंधन के बीच शाम से वार्ता चल रही है।अभी तक प्रबंधन कोई जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं हुआ है। प्रबंधन इसे ठेकेदार का मामला बता रहा है। फैक्ट्री के आसपास भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात है। अभी 1 फ़रवरी को अचानक से प्रबंधन ने 15- 20 सालों से कार्यरत करीब 370 ठेका मजदूरों का गेट बंद कर, काम पर आने से रोक दिया। निकाले गए सभी मजदूरों की औसत उम्र 40 के आसपास है। स्थिति काफ़ी गंभीर है, मांगे ना माने जाने तक मजदूरों ने ओमेक्स के गेट से ना हटने का फैसला किया है।

Newspaper report:
http://timesofindia.indiatimes.com/city/gurgaon/sacked-omax-worker-kills-self-he-was-unwell-says-company/articleshow/57155137.cms?