साथियों
मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद से देश भर में एक आर्थिक आपातकाल की स्थिती छाई हुई है. काले धन के असली मालिकों को छोड़कर, बाकि सभी तबकें बहुत दिक्कतें झेल रहे हैं. सबसे ज़्यादा प्रभावित है मज़दूर, किसान और छोटे व्यापारी/दुकानदार/रेहडी-पटरी वाले, जो बरबादी और भुखमरी की कगार तक भी पहुंच रहे है. महिलाओं के काम, बचत और आर्थिक स्थिती पर भी भारी असर पड़ा है. 8 नवंबर से अब तक देश भर में इस निर्णय का विरोध तो हुआ है, पर इस आक्रोश और गुस्से ने आंदोलन का रूप नही लिया.
नोटबंदी के पीछे की असली राजनीती और एजेंडे को और गहराई से समझने, इससे जनता के अधिकतम हिस्से पर हुए असर पर बात करने, और आगे संघर्ष के रास्ते खोजने के लिए हम एक कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं.
‘नोटबंदीः जनता की जेब पर हमला’ (चर्चा व सभा)
29 जनवरी, रविवार, 11 बजे से 4 तक,
स्थानः रघुनाथ मंदिर, एन.ब्लाक, कालकाजी (गोविंद्पुरी, गली न.8 के सामने. नज़दीकी मेट्रो – गोविंदपुरी.)
कार्यक्रम में वक्ता होंगे – प्रोफेसर अरुण कुमार (अर्थशास्त्री), राकेश रंजन (अर्थशास्त्र अध्यापक, दिल्ली यूनिवर्सिटी), अर्जुण प्रसाद सिंह (पी.डी.एफ.आई), और गोपाल (मोर्चा पत्रिका). कार्यक्रम के दूसरे सत्र में प्रभावित तबकों के संगठन व प्रतिनिधी अपने अनुभव और विचार सांझा करेंगे.
आप से भी गुज़ारिश है कि कार्यक्रम में शामिल हों.
हमारा पर्चा व पोस्टर मेल में अटे्च्ड है.
मेहनतकश महिला संगठन
इंकलाबी मज़दूर संगठन
संपर्क- 9868572336, 9911821229

Dear friends,

The decision of demonetization by the NDA government under Narendra Modi has created a situation of economic emergency in the country. All sections, except only the real owners of black money, have been severely affected. The most affected are the workers, farmers, and small business/shopkeepers/hawkers, who have been devastated even to the extent of starvation. Women have been severely affected, in terms of their savings, livelihood and economic condition. Since 8 November, there have been protests across the country against demonetization, but this anger and devastation has not taken the form of a widespread movement, yet.
We are organizing a programme (public meeting and discussion) to have a deeper understanding of the real political reasons and agenda behind demonetization, to discuss the impact on the majority of the population and to explore future course of struggles.

Notebandi: janta ki jeb par hamla
29th January, 2017, Sunday, from 11am to 4 pm,
Place: Raghunath Mandir, N-Block, Kalkaji (in front of Govindpuri, gali no.8. The nearest Metro station is Govindpuri.)

The speakers include Prof Arun Kumar (retired economist), Rakesh Ranjan (Economics Department, SRCC, Delhi University), Arjun Prasad Singh (PDFI) and Gopal (Morcha Patrika). In the second half of the programme, different individuals and organizations from the sections affected by demonetization, will share their experiences, and views.

We invite you to be part of this programme.
Our pamphlet and poster are attached below in the mail.
Regards,

Mehnatkash Mahila Sangathan
Inkalabi Mazdoor Sangathan
Contact: 9868572336, 9911821229

नोटबंदी जनवरी पर्चा फाइनल